देश राज्य स्वास्थ्य होम

कुलभूषण गोयल ने जलौली में किया कबड्डी टूर्नामेंट का शुभारंभ

पंचकूला 1 नवंबर। 
गुरु राम राय जी महाराज के द्वारा जलौली पंचकूला में ओपन कबड्डी टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। इस टूर्नामेंट चंडीगढ़, संदौल, सोवाली, सोनीपत, अंबाला, गन्नौर, महाराणा प्रताप क्लब बरवाला, जलौली, करणपुर सहित अन्य स्थानों से टीमें भाग लिया। इस टूर्नामेंट का शुभारंभ इंडियन नेशनल लोकदल व्यापार सेल के प्रदेश अध्यक्ष कुलभूषण गोयल ने किया। कुलभूषण गोयल का चंद्रपाल राणा, पुष्पिंद्र राणा, डिंपल, नीरज, विशाल ने स्वागत किया।
कुलभूषण गोयल ने कहा कि खेल की सबसे पहली विशेषता है कि खेल आमोद-प्रमोद है। खेल में मजा आता है। कोई भी ऐसा कार्यकलाप जिससे बच्चों को आनंद मिलता है, खेल है। खेल बच्चे की स्वाभाविक क्रिया है। भिन्न-भिन्न आयु वर्ग के बच्चे विभिन्न प्रकार के खेल खेलते है ये विभिन्न प्रकार के खेल बच्चों के समपूर्ण विकास में सहायक होते हैं। खेलों के प्रकारों में अन्वेषणात्मक, संरचनात्मक, काल्पनिक और नियमबद्ध खेल शामिल हैं। खेलों में सांस्कृतिक विभिन्नताएं भी देखी जाती हैं। खेल से बच्चों का शारीरिक, संज्ञानात्मक, संवेगात्मक, सामाजिक एवम् नैतिक विकास को बढ़ावा मिलता हैं किन्तु अभिभावकों की खेल के प्रति नकारात्मक अभिवृत्ति एवं क्रियाकलाप ने बुरी तरह प्रभावित किया हैं। अत: यह अनिवार्य हैं कि शिक्षक और माता-पिता खेल के महत्व को समझें। उन्होंने कहा कि खेलों का जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। खेल से शारीरिक और मानसिक विकास तो होता ही है, इनसे आपसी सदभाव भी मजबूत होता है। कुलभूषण गोयल ने कहा कि खेल व्यक्ति के जीवन का अभिन्न हिस्सा हैं। हर किसी को खेल के लिए समय निकालना चाहिए। इससे शरीर हमेशा चुस्त दुरुस्त रहता है। खेल भाई चारे की भावना को भी आगे बढ़ाने का काम करते हैं। इस अवसर पर शिवम, संदीप, राहुल, बिंद्र, रोमी, बृजमोहन शर्मा, सतबीर फौजी, शोभित, निट्टू फौजी, नरेंद्र पाल, सुदेश शर्मा, चंद्रपाल राणा, शशी भूषण रिहौड़, सीमा चौधरी, करण चौधरी, गुरदास गुरजीत भी उपस्थित थे।