चंडीगढ़ ट्राई सिटी देश हरियाणा होम

एम टी पी किट रखने बेचने के आरोप में दुकानों को सील कर दिया

गुरुग्राम-तीन दिनों से लगातार हरियाणा खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग की चल रही कार्यवाही में गुरुग्राम में औषधि नियंत्रण अधिकारी अमन दीप चौहान ने आरती मेडिकोज और लोकेश मेडिकल स्टोर को बिना रिकॉर्ड नशे की दवाइयां रखने और बिना फार्मासिस्ट के बेचने तथा एम टी पी किट रखने बेचने के आरोप में कार्यवाई करते हुए दोनों दुकानों को सील कर दिया गया। दो अन्य दुकानों नेशनल मेडिकोज और सीता मेडिकल स्टोर को निरीक्षण के दौरान पाई गई त्रुटियों के लिए कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई है। इसके अतिरिक्त गुरुग्राम में हुडा सिटी सेन्टर मेट्रो स्टेशन के सामने से भूपेंद्र सिंह नामक व्यक्ति से लगभग तीन 3 लाख की प्रतिबंधित दवाइयां बरामद करके कब्जे में लेकर नमूना भरकर जांच हेतु भेजा गया है। रेवाड़ी में एक एफ आई आर एन डी पी एस एक्ट के तहत नशे के लिए प्रयोग होने वाले पेंटाजोसिन इनजेक्शन जो कि 6 रुपये का है उसे 7000 रुपये में बेचने के आरोप में दर्ज की गई । इसमें ड्रग एक्ट डी पी सी ओ आदि की धाराएं भी एफ आई आर में भी लगाई गई ।
भिवानी में आठ दूकानों सैनिक मेडिकल हॉल ईशरवाल तोशाम , बाला जी मेडिकल हाल बस स्टैंड गिगनो सांगवान मेडिकल स्टोर ईशरवाल तोशाम , बलवान मेडिकल हॉल ईशरवाल , बुरा मेडिकल स्टोर ईशरवाल, हिसार मेडिकल हाल ईशरवाल , श्योराण मेडिकल हॉल ईशरवाल के निरीक्षण करते हुए औषधि नियंत्रण अधिकारी हेमन्त ग्रोवर ने कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की है।
श्रीमती विजय राजे औषधि नियंत्रण अधिकारी ने राधे राधे मेडिकल स्टोर पानीपत पर नशे की दवाइयां मिलने और बिना फार्मासिस्ट बेचने के आरोप में सील कर दिया इसके अतिरिक्त चार अन्य दुकानों के निरीक्षण करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई।
कैथल में सुनील दहिया ने परजिन्दर सिंह वरिष्ठ औषधि नियंत्रण अधिकारी के साथ छह 6 दुकानों के निरीक्षण करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की है।
सुनील चौधरी वरिष्ठ औषधि नियंत्रण अधिकारी ने प्रवीण कुमार औषधि नियंत्रण अधिकारी के साथ कुलदीप मेडिकल हॉल कक्कर माजरा नारायण गढ़ अम्बाला और बस्ती मेडिकोज ग्राम धनोरा की दुकानों को नशे की दवाइयां रखने और बिना फार्मासिस्ट बेचने के आरोप में सील कर दिया और दोनों दुकानों से नशे की दवाइयां के नमूने जांच हेतु भरे गए। इसके अलावा तीन और दुकानों के निरीक्षण के बाद कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई।
हांसी की बहुत पुरानी दुकान राम किशन एंड कम्पनी को भी सुरेश चौधरी औषधि नियंत्रण अधिकारी ने नशे की दवाइयां बिना लाइसेंस रखने बेचने के आरोप में सील कर दिया। गौरतलब है कि इसी दुकान के लाइसेंस पहले भी निलम्बित किये गए थे। इसके अलावा पांच 5 और दुकानों के निरीक्षण के बाद कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई।
फरीदाबाद में करण सिंह गोदारा वरिष्ठ औषधि नियंत्रण अधिकारी के नेतृत्व में दस 15 दुकानों के निरीक्षण किये गए और चार 4 दुकानो रुचि मेडिकोज सानिया मेडिकल स्टोर शिव मेडिकल स्टोर और रॉयल मेडिकल स्टोर को नशे की दवाओं को रखने बेचने के आरोप में सील कर दिया गया। बाकी 9 दुकानों को कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई है।
इसी प्रकार रमन श्योराण और सुरेश चौधरी की टीम ने हिसार में भी दस दुकानों के निरीक्षण करने के बाद कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की है।
सिरसा में मुख्यालय से गए पदम सिंह राठी के नेतृत्व में डबवाली और सिरसा में दुकानों के निरीक्षण करने के बाद कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की गई है।
फतेहाबाद में नृपेन गोयल के नेतृत्व में छापे मारे गए।
यह जानकारी देते हुए नरेन्द्र आहूजा विवेक राज्य औषधि नियन्त्रक हरियाणा ने बताया कि राज्य सरकार की नशे के लिए जीरो टॉलरेंस की नीति है और विभाग के कमिश्नर डॉ साकेत कुमार के आदेश पर कार्यवाई करते हुए विभाग के अधिकारियों ने नशे के विरुद्ध औचक निरीक्षण करने का यह तीन दिवसीय अभियान चलाया था जिसे आगे भी निरन्तर जारी रखा जाएगा और प्रदेश को नशा मुक्त बनाने के सरकार के संकल्प पर कार्य किया जाएगा। यह बताते हुए राज्य औषधि नियन्त्रक नरेन्द्र विवेक ने बताया कि राज्य में निकोटिन को पहले ही पोइज़न नोटिफाई कर दिया गया है। विभाग के अधिकारियों ने काम करते हुए अब तक 37 मुकदमे राज्य की विभिन्न अदालतों में दायर किये हैं। कमिश्नर एफ डी ए डॉ साकेत कुमार ने इस बारे सपष्ट निर्देश जारी किए हैं।