Breaking News अन्य खबरें

अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद रायबरेली 150 वी जयंती मनाई बड़ी धूमधाम के साथ*

*अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद रायबरेली*

गांधी जयंती के अवसर पर वैश्य एकता परिषद के मैदान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जिसमें वैश्य नेताओं ने गांधी के जीवन पर प्रकाश डाला
राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ सुमंत गुप्ता ने कहा कि वैश्य समाज की भूमिका सर्व समाज में महत्वपूर्ण है वैश्य समाज को दिशा देने का काम करती है ।आजादी से लेकर वर्तमान तक समाज की द्वारा राष्ट्र को मजबूत करने का काम किया जाता रहा है। देशभर में धर्मशाला चिकित्सालय पुस्तकालय और चाहे विद्यालय बनाने के काम हो पहले वैश्य समाज का योगदान ही प्रथम होता था।
आज जब राजनीतिक व्यवस्था की बात की जाए तो वैश्य ही सभी पार्टियों को आर्थिक रुप से चंदा देने का काम करते हैं।

महिला प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय अध्यक्ष कविता रस्तोगी ने कहा कि आज भाजपा की सरकार देश में है देश आगे बढ़ रहा है लेकिन जनसंघ के समय वैश्य समाज के लोग ही चुनाव लड़ते थे।यह जानते हुए भी की चुनाव का प्रणाम प्रतिकूल होगा और हार बहुत बड़ी होती है लेकिन राष्ट्रवाद के लिए वैश्य समाज के लोग पीछे नहीं हटते हैं

आज भले ही सरकार बनने के बाद पार्टी में लोग अपना अधिकार दिखाते हूं लेकिन सच्चाई यह है कि भाजपा की नींव वैश्य समाज के बलिदान पर रखी गई।
कार्यक्रम में उन छात्र-छात्राओं को भी सम्मानित किया गया। जिन्होंने हाई स्कूल और इंटर की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया। जिसमें कोमल गुप्ता, अभय गुप्ता, बंसीलाल ,आदर्श गुप्ता ,रोहित गुप्ता , देवांश गुप्ता, मृत्युंजय शामिल रहे
साहित्य के क्षेत्र में अपनी कलम की ताकत दिखाने वाले समाज के साहित्यकारों को भी सम्मानित किया गया साथ ही एडवोकेट आलोक गुप्ता अंजली गुप्ता आशीष देवांशी को भी सम्मान प्राप्त हुआ। कार्यक्रम में राष्ट्रपति पुरस्कार पाने वाले निर्भया अग्रहरी को भी सम्मान मिला।
कार्यक्रम में प्रभारी पंकज मुरारका ने कहा की वैश्य समाज के व्यापारी राष्ट्र को मजबूत करने की अपना पूरा योगदान देते हैं और टैक्स देकर राष्ट्र को आर्थिक रूप से मदद करते हैं
चिकित्सा के क्षेत्र में योगदान देने वाले डॉक्टर संजीव जयसवाल और डॉक्टर संजय रस्तोगी को भी सम्मानित किया गया।
राष्ट्रीय महासचिव विजय रस्तोगी ने और जिलाध्यक्ष राजकुमार गुप्ता ने सभी को धन्यवाद दिया ।

देश प्यार न्यूज ब्यूरो रायबरेली

हेमंत कुमार अग्रहरि