चंडीगढ़ ट्राई सिटी राजनीति हरियाणा होम

नियुक्तियों के लिए आवेदन आदर्श आचार संहिता की घोर उल्लंघना-कांग्रेस

चंडीगढ़ । केन्द्र की भाजपा सरकार द्वारा प्रदेश में विधान सभा चुनावों की घोषणा होने के बाद 27 सितंबर 2019 को एफसीआई में 330 पदों पर नियुक्तियों के लिए आवेदन मांगे गए हैं जो कि आदर्श आचार संहिता की घोर उल्लंघना है। भाजपा को अगर नियुक्तियां करनी ही थी तो साल के शुरू में भी कर सकती थी परंतु वोटरों को लुभाने के लिए भाजपा की सरकार द्वारा चुनावों के समय में नियुक्तियां निकाली  गई। मुख्य चुनाव आयोग द्वारा भाजपा के इस निर्णय पर तुरंत कार्यवाही की जानी चाहिए।
यह बात हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव अधिकारियों की बैठक में रखी। हरियाणा विधान सभा चुनावों के संदर्भ में मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा प्रदेश के सभी राजनैतिक दलों की एक बैठक चंडीगढ़ स्थित होटल ललित में बुलाई गई थी। कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधिमंडल में हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष रोहित जैन, निलय सैनी, लीगल सैल के पदाधिकारी उदित मेंहदीरत्ता, नरेंद्र सिंह सांगवान व अमन दत्त शर्मा शामिल थे।
प्रदेश कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल की ओर से सभी कर्मचारियों को पोस्टल बैलेट पेपर न मिलने का मुद्दा भी उठाया गया। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि विभाग का प्रमुख सरकार के इशारे पर कर्मचारियों को अपने सामने ही भाजपा को वोट डालने का दबाव बनाता है जोकि चुनाव आचार संहिता की घोर उल्लंघना है। प्रतिनिधिमंडल ने मांग की कि सभी कर्मचारियों को बैलेट पेपर मुहैया करवायें जाये और यह भी ध्यान रखा जाये की वोटल करते समय उन कर्मचारियों पर किसी प्रकार का दबाव न बनाया जाये।
कांग्रेस नेताओं ने संवेदनशील बूथों पर अर्धसैनिक बलों का तैनात करने की मांग भी रखी गई। उन्होंने कहा कि हाल ही में हुए लोक सभा चुनावों में भाजपा के कुछ नेताओं ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करते हुए कई जगहों पर बूथ कैपचरिंग व वोटरों को धमकाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि रोहतक, उकलाना, किलोई, कालका, आदमपुर, पंचकुला, कैथल, नारायणगढ़ आदि विधान सभा क्षेत्रों को अति संवेदनशील घोषित किया जाये और इन क्षेत्रों में अर्ध सैनिक बलों की तैनाती की जाये ताकि हरियाणा में बिना किसी रूकावट के पारदर्शी तरीके से चुनाव करवाये जा सकें।
कांग्रेस नेताओं ने पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची को अप्रूव न करने का मुद्दा भी बैठक में पूरे जोर-शोर से उठाये जाने के बाद मुख्य चुनाव अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि इस सूची को तुरंत प्रभाव से अप्रूव कर दिया जायेगा।
ईवीम की मॉक टैस्टिंग का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि चुनाव अधिकारी सिर्फ एक बार ही मॉक टेस्टिंग करते है जिससे कांग्रेस पार्टी संतुष्ट नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी या किसी अन्य दल के ऐजेंट द्वारा दो-तीन बार टैस्टिंग की मांग की जाती है तो उसे पूरा किया जाना चाहिए ताकि किसी को भी ईवीएम पर किसी प्रकार की शंका न रहे।